करवा चौथ 2020 : करवा चौथ कब है? करवा चौथ व्रत, शुभ मुहूर्त

करवा चौथ का व्रत हिंदू कैलेंडर में कार्तिक माह के कृष्ण पक्ष की चतुर्थी के दौरान किया जाता है। करवा चौथ मुख्य हिंदू त्योहारों में से एक है, खासकर विवाहित महिलाओं के लिए। यह एक व्रत त्योहार है जो विवाहित महिलाएं अपने पति की भलाई के लिए उपवास रखकर मनाती हैं। हिंदू संस्कृति में, यह त्योहार सभी विवाहित महिलाओं की सबसे बड़ी विश्वसनीयता रखता है। सबसे महत्वपूर्ण में से एक होने के अलावा, यह निरीक्षण करने के लिए सबसे कठिन उपवासों में से एक है। करवा चौथ का व्रत सूर्योदय के बाद रात में चंद्रमा के दर्शन तक बिना कोई भोजन या पानी की एक बूंद ग्रहण किए सख्त रूप से मनाया जाता है। करवा चौथ के दिन को करक चतुर्थी के नाम से भी जाना जाता है।

करवा चौथ 2020 : करवा चौथ कब है? करवा चौथ व्रत, शुभ मुहूर्त

करवा चौथ का अर्थ-

करवा चौथ प्यार और समर्पण का त्योहार है। करवा शब्द का अर्थ है मिट्टी का "बर्तन" और चौथ का अर्थ है "चौथा" जो कार्तिक महीने के चौथे दिन को दर्शाता है। इस दिन, दुनिया भर में विवाहित महिलाएं सूर्योदय से लेकर चंद्रमाोदय तक उपवास रखती हैं और बाद में शाम को अपने पति के हाथ से पानी पीकर उपवास तोड़ती हैं। इन दिनों, कई अविवाहित लड़कियां भी अपने सपनों का पति पाने के लिए उपवास रखती हैं।

करवा चौथ पर इस विधि से करें चंद्रमा की पूजा-

  1. करवा चौथ पर चौथ माता की पूजा करने के बाद और करवा चौथ की कथा सुनने के चंद्रमा की पूजा की जाती है.
  2. चंद्रमा की पूजा से पहले चंद्र देवता का आह्वाहन अवश्य करें और चंद्र पूजा के लिए एक अलग से थाली लें. उस थाली में पलाश के पत्ते रखें और चांदी का एक सिक्का भी रखें.
  3. चांदी का सिक्का रखने के बाद सभी पर गंगाजल छिड़कें और चांदी की ही कटोरी में चंदन लेकर चांदी के सिक्के पर लगाएं. इसके बाद चांदी के सिक्के पर कुमकुम लगाएं उसके बाद अक्षत और सफेद पुष्प चढ़ाएं और उस थाली को धूप दिखाएं और सफेद रंग का कपड़ा भी उस थाली में रखें. इसके बाद उस थाली में दूध से बनी मिठाई को रखें. मिठाई के बाद उस थाली में जनेऊ भी रखें और दो तांबूल पत्र में लौंग और सुपारी लेकर चढ़ाएं. अंत में उस थाली में दक्षिणा रखें.
  4. करवा चौथ पर चंद्र पूजन करने के लिए गाय के दूध और चावल को करवे अंदर पानी में मिलाएं. इसके बाद चंद्रमा को अर्घ्य दें और छलनी में रखने के दूसरा दीपक जलाएं.

उसके बाद पूजा की थाली को चंद्र देवता के आगे घूमाएं. इसके बाद छलनी से चंद्रमा को देखें और उसके तुरंत बाद ही अपने पति का चेहरा देखें.

करवा चौथ 2020 तिथि और करवा चौथ पूजा मुहूर्त:

करवा चौथ 2020 तिथि- 04 नवंबर 2020 (बुधवार)

करवा चौथ पूजा मुहूर्त: 17:33:28 से 18:39:14 तक

अवधि: 1 घंटा 5 मिनट

करवा चौथ का चंद्रमास समय: रात 20:11:59

Download Atrogurutips App , Get assistance from Astrologers Now



What's Your Reaction?

like
0
dislike
0
love
1
funny
0
angry
0
sad
0
wow
2