Maha Shivratri Puja Timing And Puja Muhurat 2020

फाल्गुन के महीने में शिवरात्रि को महाशिवरात्रि कहा जाता है| महाशिवरात्रि के दिन सभी शिव भक्त व्रत रखते है| पूरे विधि विधान से भगवान शंकर की आराधना करते है| इस साल महाशिवरात्रि का पर्व 21 फरवरी को मनाया जायेगा|

Maha Shivratri  Puja Timing And Puja Muhurat 2020

Maha Shivratri 2020

हिन्दू धर्म के प्रमुख त्योहारों में से एक है महाशिवरात्रि | वैसे तो हर सप्ताह सोमवार का दिन भगवान शिव की आराधना के लिए माना जाता है| हर महीने में मासिक शिवरात्रि मनाई जाती है| लेकिन साल में  शिवरात्रि का मुख्य पर्व फाल्गुन के महीने में तथा श्रवण के महीने में मनाया जाता है| फाल्गुन के महीने में शिवरात्रि को महाशिवरात्रि कहा जाता है| महाशिवरात्रि के दिन सभी शिव भक्त व्रत रखते है| पूरे विधि विधान से भगवान शंकर की आराधना करते है| इस साल महाशिवरात्रि का पर्व 21 फरवरी को मनाया जायेगा|

 

Maha Shivratri 2020 Date, Time And Subh Muhurat (महाशिवरात्रि 2020 समय और शुभ मुहूर्त)

महाशिवरात्रि इस साल शुक्रवार 21 फरवरी को मनाई जाएगी| महाशिवरात्रि के दिन भगवान शंकर और माता पार्वती की पूजा सुबह काल के दौरान करनी चाहिए| आपको बता दें, शिवरात्रि के दिन रात्रि में चार बार शिव पूजन की परम्परा हैं|

महाशिवरात्रि 2020

21 फरवरी

निशिथ काल पूजा- 24:08 से 25:00

पारण का समय- 06:57 से 15:23 (22 फरवरी)

चतुर्दशी तिथि आरंभ- 17:20 (21 फरवरी)

चतुर्दशी तिथि समाप्त- 19:02 (22 फरवरी)

 

Maha Shivratri 2020 Pooja Vidhi (महाशिवरात्रि 2020 पूजा विधि)

- शिव रात्रि को भगवान शंकर को पंचामृत से स्नान करा कराएं.

- केसर के 8 लोटे जल चढ़ाएं.

- पूरी रात्रि का दीपक जलाएं.

- चंदन का तिलक लगाएं.

- तीन बेलपत्र, भांग धतूर, तुलसी, जायफल, कमल गट्टे, फल, मिष्ठान, मीठा पान, इत्र व दक्षिणा चढ़ाएं. सबसे बाद में केसर युक्त खीर का भोग लगा कर प्रसाद बांटें.

 

Importance of Maha Shivratri  ( महाशिवरात्रि का महत्व)

हिंदू पंचांग के मुताबिक, फाल्गुन मास के कृष्ण पक्ष की चतुर्दशी को महाशिवरात्रि का पर्व मनाया जाता है. ऐसी मान्यता है कि इस दिन शिव और पार्वती का विवाह संपन्न हुआ था. मान्यता है कि महाशिवरात्रि के दिन भगवान शिव पर एक लोटा जल चढ़ाने से भगवान शिव प्रसन्न होते हैं और अपने भक्तों की सभी मनोकामनाएं पूरी करते हैं.

 

महाशिवरात्रि वाले दिन करें महामृत्युंजय मंत्र का जप

ॐ हौं जूं स: ॐ भूर्भुव: स्व: ॐ त्र्यम्बकं यजामहे सुगन्धिं पुष्टिवर्धनम् उर्वारुकमिव बन्धनान् मृत्योर्मुक्षीय मामृतात् ॐ स्व: भुव: भू: ॐ स: जूं हौं ॐ । महामृत्युंजय मंत्र का जप आपको हर मुश्किल से दूर रखता है।                                                 

What's Your Reaction?

like
4
dislike
0
love
6
funny
0
angry
0
sad
0
wow
1